पत्नी व बेटे की हत्या के बाद युवक ने किया आत्महत्या का प्रयास

Ghaziabad News : कविनगर थानाक्षेत्र के महिंद्रा एंक्लेव में मां-बेटे की चाकू घोंपकर हत्या कर दी गई। मृतक महिला के पति को गंभीर रूप से घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस की शुरूआती जांच में पत्नी व बेटी की हत्या करने के बाद पति द्वारा आत्महत्या का प्रयास करने का मामला सामने आया है। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।
महेंद्र एंक्लेव के बी-1 में अमरदीप शर्मा अपनी पत्नी सोनू एवं बेटे विनायक के साथ रहते हैं। मिली जानकारी के अनुसार आज दोपहर अमरदीप ने हिमाचल निवासी अपने छोटे भाई को फोन किया था। जिसके बाद अमरदीप के छोटे भाई ने अपनी चाची संगीता को फोन करके किसी अनहोनि की आशंका जताते हुए उनके घर भेजा। जब संगीता अमरदीप के घर पहुंची तो उनका दरवाजा बंद था। जिसके बाद संगीता ने पड़ोस में रहने वाले लोगों की मदद से दरवाजा खोला। अंदर का नजारा देखकर महिलाएं चीखती हुई घर से बाहर निकली और शोर मचा दिया।


पत्नी व बेटे का शव बेड पर व अमरदीप लहूलुहान हालत में फर्श पर मिला :
अंदर कमरे में महिला सोनू व बेटे विनायक का शव बेड पर पड़ा हुआ था, जबकि अमरदीप लहूलुहान हालत में बेड के पास फर्श पर नीचे पड़ा हुआ था। जिसके बाद लोगों ने इसकी सूचना फोन करके पुलिस को दी।
कर्ज से परेशान होकर दिया वारदात को अंजाम :


पुलिस की शुरूआती जांच में कर्ज चुकाने में नाकाम रहने पर अमरदीप ने अपनी पत्नी सोनू व बेटे विनायक की चाकू से हत्या कर खुद आत्महत्या का प्रयास किया है। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।
मौके से मिला सुसाइड नोट :
पुलिस की माने तो मौके से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है। जिसमें अमरदीप ने अपनी पत्नी सोनू व बेटे विनायक की हत्या करने के बाद खुद आत्महत्या किए जाने की बात लिखी है।
हिमाचल के कांगड़ा का रहने वाला है अमरदीप :
पड़ोसियों ने बताया कि अमरदीप हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा के रहने वाले हैं। कांगड़ा में अमरदीप का क्राकरी का काम है। वर्तमान में वह अपने परिवार सहित गाजियाबाद के महेंद्र एंक्लेव में रह रहे हैं।
अधिकारी कथन :
प्रथम दृष्टया मामला हत्या कर आत्महत्या के प्रयास का लग रहा है। मौके पर पहुंची पुलिस ने महिला व उसके बेटे के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पुलिस को मौके से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है। पुलिस व फोरेंसिक टीम मौके पर जांच में जुटी हैं।
ज्ञानंजय सिंह, डीसीपी सिटी गाजियाबाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *