एटीएम कार्ड बदलकर दिल्ली-एनसीआर में एटीएम फ्राॅड करने वाले तीन बदमाश गिरफ्तार

Ghaziabad News : दिल्ली-एनसीआर के क्षेत्र में एटीएम कार्ड बदलकर एटीएम फ्राॅड करने वाले अंतर्राज्यीय गिरोह का पर्दाफाश करते हुए गाजियाबाद क्राइम ब्रांच पुलिस ने तीन शातिर बदमाशों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए बदमाश बुजुर्गो, महिलाओं व मजदूर-अनपढ़ तबके के लोगों को अपना निशाना बनाते थे।
गाजियाबाद क्राइम ब्रांच के एडीसीपी सच्चिदानंद ने बताया कि अंतर्राज्यीय गिरोह में चार लोग शामिल हैं। जिसका सरगना गगन कुमार 12वीं फेल है। पूछताछ में गगन ने बताया कि उसने यूट्यूब से एटीएम फ्राॅड करना सीखा था। जिसके बाद उसने अपने दोस्त सोनू को अपने साथ जोड़ लिया और उसको भी एटीएम फ्राॅड करना सिखाया। सोनू 12 पास है। एडीसीपी क्राइम सच्चिदानंद ने बताया कि इस गिरोह का तीसरा सदस्य सोनू का दोस्त देवेंद्र गुर्जर 10वीं पास हैं और वह दिल्ली-एनसीआर के क्षेत्र में वाहन चोरी व लूट की वारदातों को अंजाम दे चुका है। पकड़े गए बदमाश काफी शातिर किस्म के हैं और पिछले करीब पांच सालों से दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में एटीएम फ्राॅड करने का काम कर रहे हैं। पुलिस ने इनके कब्जे से अलग-अलग बैंकों के 92 फर्जी एटीएम कार्ड, 52 हजार रूपए की नगदी व फर्जी नंबर प्लेट लगी कार के अलावा स्वाइप मशीन व एटीएम मशीन में एटीएम कार्ड चिपकाने में इस्तेमाल होने वाली फेविक्विक बरामद की हैं। इस गिरोह के चैथा बदमाश सूरज अभी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। जिसके बारे में पूछताछ कर जानकारी हासिल की जा रही है।
वारदात को अंजाम देने के लिए दिल्ली के जेब कतरों से लेते थे फर्जी एटीएम कार्ड :
गिरोह के सरगना गगन ने बताया कि वह पिछले करीब 5 सालों से दिल्ली-एनसीआर के इलाकों में एटीएम फ्राॅड की वारदातों को अंजाम देते आ रहे हैं। वारदात को अंजाम देने के लिए वह दिल्ली के जेब कतरों से एटीएम कार्ड लेते हैं।
ऐसे देते हैं लोगों को झांसा :
पुलिस पूछताछ में बदमाशों ने बताया कि वह पहले एटीएम मशीन में फेविक्विक लगा फर्जी एटीएम कार्ड डालते हैं। जिसके बाद एटीएम मशीन अन्य एटीएम कार्ड की चिप की रीडिंग नहीं कर पाती। उसके बाद वहां पास खड़ा गिरोह का सदस्य मदद के बहाने लोगों के एटीएम कार्ड बदलकर उनका पिन नंबर देख लेता है। जिसके बाद वह बदले हुए एटीएम कार्ड से अन्य एटीएम मशीन व स्विप मशीन की मदद से पैसे निकाल लेते हैं।
बदमाशों का रह चुका आपराधिक इतिहास :
एडीसीपी ने बताया कि गगन कुमार के विरूद्व दिल्ली में 3 व गाजियाबाद में 6 कुल 9 मुकदमें दर्ज हैं। सोनू के विरूद्व मथुरा में 1 गाजियाबाद में 6 कुल 7 मुकदमें दर्ज हैं तथा तीसरे बदमाश देवेंद्र के विरूद्व मध्य प्रदेश में 1, बुलंदशहर में 3 गौतमबुद्वनगर में 15 व गाजियाबाद में 6 कुल 25 मुकदमें दर्ज हैं।
अधिकारी कथन :
पकड़े गए बदमाश काफी शातिर किस्म के अपराधी हैं। ये दिल्ली-एनसीआर में एटीएम द्वारा फर्जीवाड़ा कर वारदातों को अंजाम दे चुके हैं और पूर्व में कई बार जेल भी जा चुके हैं। गिरोह के अन्य बदमाशों को पकड़ने के लिए टीम बनाकर कार्रवाई की जा रही है।
सच्चिदानंद, एडीसीपी क्राइम गाजियाबाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *