100वीं जयंती पर जननायक कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न देने की घोषण

Karpoori Thakur Bharat Ratna : भारत सरकार ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न (मरणोपरांत) देने का फैसला लिया है। यह सर्वोच्च सम्मान उनकी 100वीं जयंती पर दिया जाएगा। इस घोषण के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित कई बड़े नेताओं ने प्रतिक्रिया देते हुए अपनी खुशी जाहिर की है।
कर्पूरी ठाकुर की 100वीं जयंती पर 24 जनवरी को भारत रत्न (मरणोपरांत) दिया जायेगा। राष्ट्रपति भवन की ओर से जारी प्रेस रिजीज में इसकी घोषणा की गई। कर्पूरी ठाकुर को दिया जाने वाला यह सर्वोच्च सम्मान देश के करोड़ों लोगों की जीत के रूप में देखा जा रहा है। वह पिछड़े वर्गो के हितों की वकालत करने के लिए जाने जाते थे। 24 जनवरी, 1924 को बिहार समस्तीपुर के पितौंझिया (अब कर्पूरीग्राम) में जन्में कर्पूरी ठाकुर बिहार में एक बार उपमुख्मंत्री, दो बार मुख्यमंत्री और दशकों तक विधायक एवं विरोधी दल के नेता रहे। 1952 की पहली विधानसभा में चुनाव जीतने के बाद वे बिहार विधानसभा का चुनाव कभी नहीं हारे। 1967 में पहली बार उपमुख्यमंत्री बनने पर उन्होंने अंग्रेजी की अनिवार्यता को खत्म किया। अपने दो कार्यकाल में कुल मिलाकर ढाई साल तक मुख्यमंत्री रहे। वे बिहार के पहले गैर-कांग्रेसी मुख्यमंत्री थे। 1971 में मुख्यमंत्री बनने के बाद किसानों को बड़ी राहत देते हुए उन्होंने गैर लाभकारी जमीन पर मालगुजारी टैक्स को बंद कर दिया। इन्होंने 1977 में मुख्यमंत्री बनने के बाद मुंगेरीलाल कमीशन लागू करके राज्य की नौकरियों आरक्षण लागू कर दिया। मुख्यमंत्री रहते हुए उन्होंने राज्य के सभी विभागों में हिंदी में काम करने को अनिवार्य बना दिया था।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की प्रसन्नता जाहिर:


भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जननायक कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न दिए जाने की घोषणा के बाद प्रसन्नता जाहिर की है। उन्होंने अपने एक्स अकाउंट पर लिखते हुए कहा है कि मुझे इस बात की बहुत प्रसन्नता हो रही है कि भारत सरकार ने समाजिक न्याय के पुरोधा महान जननायक कर्पूरी ठाकुर जी को भारत रत्न से सम्मानित करने का निर्णय लिया है। उनकी जन्म शताब्दी के अवसर पर यह निर्णय देशवासियों को गौरवान्वित करने वाला है। पिछड़ों और वंचितों के उत्थान के लिए कर्पूरी जी की अटूट प्रतिबद्वता और दूरदर्शी नेतृत्व ने भारत के सामाजिक-राजनीतिक परिदृश्य पर अमिट छाप छोड़ी है। यह भारत रत्न न केवल उनके अतुलनीय योगदान का विनम्र सम्मान है, बल्कि इससे समाज में समरसता को और बढ़ावा मिलेगा।
अन्य बड़े नेताओं ने भी किया भारत रत्न दिए जाने का स्वागत:
जननायक कर्पूरी ठाकुर को मरणोपरांत भारत रत्न दिए जाने की घोषणा के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने खुशी जाहिर करते हुए कहा है कि केंद्र सरकार ने बिल्कुल सही फैसला किया है। जनता दल यूनाइटेड सालों पुरानी मांग अब पूरी हो गई है।
वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न दिए जाने पर केंद्र सरकार के निर्णय की सराहना की है। उन्होंन कहा है कि महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, सामाजिक न्याय के अग्रदूत, जननायक कर्पूरी ठाकुर जी को (मरणोपरांत) भारत रत्न से विभूषित किए जाने का निर्णय अभिनंदनीय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *