महिला लेखपाल पर लगाया सुविधा शुल्क न देने पर प्रमाणप्रत्र निरस्त करने का आरोप
: उपजिलाधिकारी ने आरोपित महिला लेखपाल को लगाई फटकार

Published By : Deepak Sain

गाजियाबाद, जिले की मोदीनगर तहसील में सुराना हल्का पर तैनात महिला लेखपाल पर सुविधा शुल्क न देने पर छात्र-छात्राओं के जाति प्रमाणपत्र का आवेदन निरस्त करने का आरोप लगाया है। शिकायतकर्ता एवं वरिष्ठ सपा नेता विकास यादव की शिकायत पर उपजिलाधिकारी शुभांगी शुक्ला ने आरोपित महिला लेखपाल को फटकार लगाते हुए प्रकरण की जांच किए जाने की बात कही है।
जिला पंचायत सदस्य पति एवं वरिष्ठ सपा नेता विकास यादव ने बताया कि सुराना व सुठारी हल्के पर एक महिला लेखपाल तैनात हैं। विकास यादव ने जिलाधिकारी गाजियाबाद को शिकायत पत्र देते हुए हल्का लेखपाल पर सुविधा शुल्क न देने पर छात्र-छात्राओं के आय व जाति प्रमाण पत्र के आवेदन पत्रों को निरस्त करने का आरोप लगाया है। शनिवार को तहसील मोदीनगर प्रांगण में आयोजित हुए समाधान दिवस में सपा नेता, आधा दर्जन पीड़ित आवेदकों के साथ उपजिलाधिकारी शुभांगी शुक्ला से मिले और उन्हें आरोपित महिला लेखपाल की कार्यशैली से अवगत कराया। विकास यादव के साथ अपनी शिकायत लेकर पहुंचे गांव सुराना निवासी जयकिशन ने बताया कि उन्होंने अपने बच्चों के लिए जाति प्रमाणपत्र बनवाने के लिए आवेदन किया था, लेकिन सुविधा शुल्क न देने के कारण हल्के पर तैनात महिला लेखपाल ने उनके बच्चों का तीन बार जाति प्रमाणपत्र का आवेदन निरस्त कर दिया। वहीं सपा नेता विकास यादव ने उपजिलाधिकारी को बताया कि गांव सुराना व सुठारी में ऐसे कई ग्रामीण हैं, जिनके आवेदन पत्र हल्का लेखपाल द्वारा भौतिक जांच किए बिना ही निरस्त किए हैं। आरोप है कि महिला लेखपाल सुविधा शुल्क के लालच में ग्रामीणों के आय, जाति व सामान्य निवास प्रमाण पत्र के आवेदन को निरस्त कर रही हैं। जिसके चलते ग्रामीणों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
अधिकारी कथन:
इस प्रकरण में सभी शिकायतकर्ताओं से साक्ष्य उपलब्ध कराए जाने के लिए कहा है। मामले की जांच की जा रही है। यदि आरोपों में सत्यता पाई जाती है तो हल्का लेखपाल के विरूद्ध विभागीय कार्रवाई की जायेगी।
शुभांगी शुक्ला,
उपजिलाधिकारी मोदीनगर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *